Saturday, August 22, 2009

मुर्दा जिन्ना का ज़िन्दा जिन्न


विभाजन और उसके तहत मौते "गदर" जिम्मेदार हिन्दु और मुसलमान खुद रहे हैं!

रही बात जिन्ना की जो उन्हों ने जो किया सही-गलत ये कथित सेकुलर ढोंग से बाहर आ कर वास्तविक परिपेक्ष को देखते हुए बात करने का विषय है!

जिन्ना की औकात कभी निर्णायक की नही थी प्रथम दोष उनका है ("चाहे जिस कारण हो") जिन्होंने सहमती दी और निर्णय घोषित किया!

खैर वो रही बीती बात...अब जिसे भाये वो लकीर पीटे!

मै निवेदन कर पूछता हूँ आप सब गणमान्य जनों से कि आज वो कौन सा राजनेता है जिसका जिन्न जिन्ना से बडा नही है?

जिन्ना ने हिन्दु और मुसलमान में बाँटा "ठीक है" तो अब वो कौन है जो SC ST OBC Backward कोटे में हिन्दु मुसलमान दोनो को छिन्न भिन्न कर रहे है? कह दीजिये उनका जिन्न जिन्ना से छोटा है!!!

2 comments:

ajai said...

आजादी की लड़ाई में कभी शामिल न होने वाला व्यक्ति
अचानक इतना प्रभावशाली हो गया की देश को बाँट दिया ?
हमारे बड़े नेता कुछ नहीं कर सके ???
किताब बहुत लोगों ने लिखी है , जसवंत सिंह जी ने भी
लिखी , ये उनके अपने विचार हैं मानिये या न मानिये !
आपने सही लिखा है जाती , धरम के नाम पर आज भी
बांटा जा रहा है इस पर लोग चुप हैं ,

काव्या शुक्ला said...

Sahi kahaa aapne.
वैज्ञानिक दृ‍ष्टिकोण अपनाएं, राष्ट्र को उन्नति पथ पर ले जाएं।